Home ट्रिब्यूट देश के सपूतों को नम आँखों से विदाई

देश के सपूतों को नम आँखों से विदाई

by News-Admin

कर्नल संतोष बाबू ने हिंसक झड़प से एक दिन पहले ही अपनी मां से फोन पर बात की थी। उनकी मां ने अपने इकलौते बेटे के साथ आखिरी फोन कॉल को याद करते हुए बताया कि कर्नल संतोष बाबू बॉर्डर पर चल रहे तनाव को लेकर परेशान थे। कर्नल संतोष का हैदराबाद ट्रांसफर होना था, लेकिन कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से इसमें देरी हो रही थी।


रविवार की शाम को संतोष बाबू ने अपनी मां से आखिरी बार बात की थी। इस आखिरी कॉल में उन्होंने सीमा तनाव पर चिंता जताई थी, साथ ही कहा था कि वह इस बारे में उनसे बात नहीं कर सकते क्योंकि यह संवेदनशील मामला है। उनके पिता ने बताया कि मैंने उसे (संतोष बाबू) ध्यान रखने को कहा था।

संतोष बाबू के पिता बैंक में काम करते थे। उन्होंने कहा, मैं चाहता था कि मेरा बेटा सेना में शामिल होकर देश की सेवा करे, जो मैं कभी नहीं कर सका। लेकिन मेरे रिश्तेदारों ने मेरे इस विचार का विरोध किया था।

Related Articles

Leave a Comment