Home आव्हान 15 August:आखिर 15 अगस्त को ही क्यों मनाते हैं स्वतंत्रता दिवस

15 August:आखिर 15 अगस्त को ही क्यों मनाते हैं स्वतंत्रता दिवस

by News-Admin

हर वर्ष हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं लेकिन क्या कभी आपने यह जानने की कोशिश की कि आखिर 15 अगस्त को ही हम को आजादी क्यों मिली । इसके पीछे बहुत इतिहासकारों का अपना अपना मत है आइए जानते हैं इस विषय की रोचक जानकारी

15 अगस्त 1947 गौरवशाली दिन था। जिस दिन भारत को पूर्णत आजादी मिली और अंग्रेजों ने भारत की सत्ता को भारतीय नेताओं के हाथ में सौंप दिया। इसके पीछे अनेकों क्रांतिकारियों ने अपने जीवन की आहुति चढ़ा दी और अनेकों वैसे स्वतंत्रता सेनानी थे जो अपना पूर्ण जीवन संघर्ष में काट रहे थे। लेकिन इन सब विषयों को परे रखते हुए हैं मन में यह सवाल जरूर उठता है कि आखिर 15 अगस्त को ही आजादी क्यों मिली।

भारत में अंतिम बार निर्वाचित किए गए वायसराय लोड माउंटबेटन (Lord Mountbatten)को 30 जून 1948 का समय दिया गया था कि वह भारत को पूर्ण स्वतंत्र करके भारत के लोगों को सत्ता सौंप दें। जिसके बाद माउंटबेटन ने 15 अगस्त 1947 की तारीख चुनी

इसके पीछे अनेकों इतिहासकार अपना-अपना मत रखते हैं। सी राजगोपालाचारी के कहने पर उन्होंने 15 अगस्त की तारीख का नाम सुना था। और कुछ इतिहासकारों का मानना है कि लोड माउंटबेटल के लिए 15 का अंक शुभ था ,इसलिए उन्होंने 15 अगस्त का दिन चुना था।

Related Articles

1 comment

News-Admin March 9, 2021 - 6:32 pm

हर वर्ष हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं लेकिन क्या कभी आपने यह जानने की कोशिश की कि आखिर 15 अगस्त को ही हम को आजादी क्यों मिली । इसके पीछे बहुत इतिहासकारों का अपना अपना मत है आइए जानते हैं इस विषय की रोचक जानकारी

15 अगस्त 1947 गौरवशाली दिन था। जिस दिन भारत को पूर्णत आजादी मिली और अंग्रेजों ने भारत की सत्ता को भारतीय नेताओं के हाथ में सौंप दिया। इसके पीछे अनेकों क्रांतिकारियों ने अपने जीवन की आहुति चढ़ा दी और अनेकों वैसे स्वतंत्रता सेनानी थे जो अपना पूर्ण जीवन संघर्ष में काट रहे थे। लेकिन इन सब विषयों को परे रखते हुए हैं मन में यह सवाल जरूर उठता है कि आखिर 15 अगस्त को ही आजादी क्यों मिली।

भारत में अंतिम बार निर्वाचित किए गए वायसराय लोड माउंटबेटन (Lord Mountbatten)को 30 जून 1948 का समय दिया गया था कि वह भारत को पूर्ण स्वतंत्र करके भारत के लोगों को सत्ता सौंप दें। जिसके बाद माउंटबेटन ने 15 अगस्त 1947 की तारीख चुनी

इसके पीछे अनेकों इतिहासकार अपना-अपना मत रखते हैं। सी राजगोपालाचारी के कहने पर उन्होंने 15 अगस्त की तारीख का नाम सुना था। और कुछ इतिहासकारों का मानना है कि लोड माउंटबेटल के लिए 15 का अंक शुभ था ,इसलिए उन्होंने 15 अगस्त का दिन चुना था।

Reply

Leave a Comment